SELECT * FROM (`books`) JOIN `authorlist` ON `books`.`authorid` = `authorlist`.`authorid` WHERE `authorlist`.`author_eng` = 'Devkinandan Khatri' OR `books`.`cost_in` != 0 AND `books`.`book_type` = 1 AND `books`.`book_for_library` = '1' ORDER BY `books`.`title_hindi` asc LIMIT 10 Devkinandan Khatri/देवकीनन्दन खत्री
लोगों की राय

लेखक:

देवकीनन्दन खत्री
जन्म :- 18 जून 1861 (आषाढ़ कृष्ण 7 संवत् 1918)।

जन्मस्थान :- मुजफ्फरपुर (बिहार)।

निधन :- 1 अगस्त, सन् 1913।

बाबू देवकीनन्दन खत्री के पिता लाला ईश्वरदास के पुरखे मुल्तान और लाहौर में बसते-उजड़ते हुए काशी आकर बस गए थे। इनकी माता मुजफ्फरपुर के रईस बाबू जीवनलाल महता की बेटी थीं। पिता अधिकतर ससुराल में ही रहते थे। इसी से इनके बाल्यकाल और किशोरावस्था के अधिसंख्य़ दिन मुजफ्फरपुर में ही बीते।

हिन्दी और संस्कृत में प्रारम्भिक शिक्षा भी ननिहाल में हुई। फारसी से स्वाभाविक लगाव था, पर पिता की अनिच्छावश शुरु में उसे नहीं पढ़ सके। इसके बाद अठारह वर्ष की अवस्था में, जब गया स्थित टिकारी राज्य से सम्बद्ध अपने पिता के व्यवसाय में स्वतंत्र रूप से हाथ बँटाने लगे तो फारसी और अंग्रेजी का भी अध्ययन किया। 24 वर्ष की आयु में व्यवसाय सम्बन्धी उलट-फेर के कारण वापस काशी आ गए और काशी नरेश के कृपापात्र हुए। परिणामतः मुसाहिब बनना तो स्वीकार न किया, लेकिन राजा साहब की बदौलत चकिया और नौगढ़ के जंगलों का ठेका पा गए। इससे उन्हें आर्थिक लाभ भी हुआ और वे अनुभव भी मिले जो उनके लेखकीय जीवन में काम आए। वस्तुतः इसी काम ने उनके जीवन की दिशा बदली।

स्वभाव से मस्तमौला, यारबाश किस्म के आदमी और शक्ति के उपासक। सैर-सपाटे, पतंगबाजी और शतरंज के बेहद शौकीन। बीहड़ जंगलों, पहाड़ियों और प्राचीन खँडहरों से गहरा, आत्मीय लगाव रखने-वाले। विचित्रता और रोमांचप्रेमी। अद्भुत स्मरण-शक्ति और उर्वर, कल्पनाशील मस्तिष्क के धनी।

चन्द्रकान्ता पहला ही उपन्यास, जो सन् 1888 में प्रकाशित हुआ। सितम्बर 1898 में लहरी प्रेस की स्थापना की। ‘सुदर्शन’ नामक मासिक पत्र भी निकाला। चन्द्रकान्ता और चन्द्रकान्ता सन्तति (छः भाग) के अतिरिक्त देवकीनन्दन खत्री की अन्य रचनाएँ हैं :- नरेन्द्र-मोहिनी, कुसुम कुमारी, वीरेन्द्र वीर या कटोरा-भर खून, काजल की कोठरी, गुप्त गोदना तथा भूतनाथ (प्रथम छः भाग)।

1857 का संग्राम

वि. स. वालिंबे

संक्षिप्त और सरल भाषा में 1857 के संग्राम का वर्णन

  आगे...

अकबर

सुधीर निगम

धर्म-निरपेक्षता की अनोखी मिसाल बादशाह अकबर की प्रेरणादायक संक्षिप्त जीवनी...   आगे...

अकबर - बीरबल

गोपाल शुक्ल

अकबर और बीरबल की नोक-झोंक के मनोरंजक किस्से

  आगे...

अंतस का संगीत

अंसार कम्बरी

मंच पर धूम मचाने के लिए प्रसिद्ध कवि की सहज मन को छू लेने वाली कविताएँ

  आगे...

अंतिम संदेश

खलील जिब्रान

विचार प्रधान कहानियों के द्वारा मानवता के संदेश

  आगे...

अद्भुत दौड़

बी पी आई इंडिया प्राइवेट लिमिटेड

बालक गणेश की रोचक कथाएँ।

  आगे...

अपने अपने अजनबी

अज्ञेय

अज्ञैय की प्रसिद्ध रचना

  आगे...

अपराजेय निराला

आशीष पाण्डेय

निराला साहित्य के नव क्षितिज

  आगे...

अमृत द्वार

ओशो

ओशो की प्रेरणात्मक कहानियाँ

  आगे...

अरस्तू

सुधीर निगम

सरल शब्दों में महान दार्शनिक की संक्षिप्त जीवनी- मात्र 12 हजार शब्दों में…   आगे...

 

  View All >>   1 पुस्तकें हैं|