Subodh Srivastava/सुबोध श्रीवास्तव
लोगों की राय

लेखक:

सुबोध श्रीवास्तव

सुबोध श्रीवास्तव

जन्म: 4 सितम्बर, 1966 (कानपुर)
माता: श्रीमती कमला श्रीवास्तव
पिता: स्व.श्री प्रेम नारायण दीवान
शिक्षा: परास्नातक
व्यवसाय: पत्रकारिता (वर्ष 1986 से)। 'दैनिक भास्कर', 'स्वतंत्र भारत' (कानपुर/लखनऊ) आदि में महत्वपूर्ण पदों पर कार्य।
विधाएं: नई कविता, गीत, गजल, दोहे, मुक्तक, कहानी, व्यंग्य, निबंध, रिपोर्ताज और बाल साहित्य।
रचनाएं देश-विदेश की प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं, प्रमुख अंतरजाल पत्रिकाओं में प्रकाशित। दूरदर्शन/आकाशवाणी से प्रसारण भी।
प्रकाशित कृतियां:
'पीढ़ी का दर्द' (काव्य संग्रह)
सरहदें (काव्य संग्रह)
'ईर्ष्या' (लघुकथा संग्रह)
'शेरनी मां' (बाल कथा संग्रह)
‘कविता अनवरत-2’, ‘कानपुर के समकालीन कवि’ सहित कई काव्य संकलनों में रचनाएँ संकलित।
सम्मान: काव्यकृति 'पीढ़ी का दर्द' के लिए उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान द्वारा पुरस्कृत।
साहित्य/पत्रकारिता के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए भारतीय दलित साहित्य अकादमी द्वारा 'गणेश शंकर विद्यार्थी अतिविशिष्ट सम्मान'।
-कई अन्य संस्थाओं से भी सम्मानित।
संपादन : 'काव्ययुग' ई-पत्रिका
संप्रति : 'आज' (हिन्दी दैनिक), कानपुर में कार्यरत।
संपर्क : 'माडर्न विला', 10/518, खलासी लाइन्स,
कानपुर (उ.प्र.)-208001, उत्तर प्रदेश (भारत)।
फोन: +91-09305540745, 9839364419
फेसबुक:www.facebook.com/subodhsrivastava85
ट्विटर:www.twitter.com/subodhsrivasta3
ई-मेल: subodhsrivastava85@yahoo.in
ssubodh158@gmail.com

पीढ़ी का दर्द

सुबोध श्रीवास्तव

संग्रह की रचनाओं भीतर तक इतनी गहराई से स्पर्श करती हैं और पाठक बरबस ही आगे पढ़ता चला जाता है।

  आगे...

सरहदें

सुबोध श्रीवास्तव

कविताएं ऎसी हैं जो उम्मीद और आत्मविश्वास की अलख को जगाने का काम करती हैं।

  आगे...

 

   2 पुस्तकें हैं|