प्रेमचन्द की कहानियाँ 24 - प्रेमचंद Premchand Ki Kahaniyan 24 - Hindi book by - Premchand
लोगों की राय

कहानी संग्रह >> प्रेमचन्द की कहानियाँ 24

प्रेमचन्द की कहानियाँ 24

प्रेमचंद


E-book On successful payment file download link will be available
प्रकाशक : भारतीय साहित्य संग्रह प्रकाशित वर्ष : 2017
पृष्ठ :134
मुखपृष्ठ : ई-पुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 9785

Like this Hindi book 9 पाठकों को प्रिय

289 पाठक हैं

प्रेमचन्द की सदाबहार कहानियाँ का चौबीसवाँ भाग


डाक्टर ने खेद प्रकट करते हुए कहा- यह रोग बहुत ही गुप्तरीति से शरीर में प्रवेश करता है।

चैतन्यदास- मेरे खानदान में तो यह रोग किसी को न था।

डाक्टर- सम्भव है, मित्रों से इसके जर्म (कीटाणु) मिले हों।

चैतन्यदास कई मिनट तक सोचने के बाद बोले- अब क्या करना चाहिए।

डाक्टर- दवा करते रहिये। अभी फेफड़ो तक असर नहीं हुआ है इनके अच्छे होने की आशा है।

चैतन्यदास- आपके विचार में कब तक दवा का असर होगा?

डाक्टर- निश्चय पूर्वक नहीं कह सकता। लेकिन तीन चार महीने में वे स्वस्थ हो जायेंगे। जाड़ों में इस रोग का जोर कम हो जाया करता है।

चैतन्यदास- अच्छे हो जाने पर ये पढने में परिश्रम कर सकेंगे?

डाक्टर- मानसिक परिश्रम के योग्य तो ये शायद ही हो सकें।

चैतन्यदास- किसी सेनेटोरियम (पहाड़ी स्वास्थ्यालय) में भेज दूँ तो कैसा हो?

डाक्टर- बहुत ही उत्तम।

चैतन्यदास- तब ये पूर्णरीति से स्वस्थ हो जाएंगे?

डाक्टर- हो सकते हैं, लेकिन इस रोग को दबा रखने के लिए इनका मानसिक परिश्रम से बचना ही अच्छा है।

चैतन्यदास नैराश्य भाव से बोले- तब तो इनका जीवन ही नष्ट हो गया।

...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book