प्रेमचन्द की कहानियाँ 35 - प्रेमचंद Premchand Ki Kahaniyan 35 - Hindi book by - Premchand
लोगों की राय

कहानी संग्रह >> प्रेमचन्द की कहानियाँ 35

प्रेमचन्द की कहानियाँ 35

प्रेमचंद


E-book On successful payment file download link will be available
प्रकाशक : भारतीय साहित्य संग्रह प्रकाशित वर्ष : 2017
पृष्ठ :380
मुखपृष्ठ : ई-पुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 9796

Like this Hindi book 5 पाठकों को प्रिय

120 पाठक हैं

प्रेमचन्द की सदाबहार कहानियाँ का पैंतीसवाँ भाग

प्रेमचन्द की सभी कहानियाँ इस संकलन के 46 भागों में सम्मिलित की गईं है। यह इस श्रंखला का पैंतीसवाँ भाग है।

अनुक्रम

1. राज्य-भक्त
2. रानी सारंधा
3. रामचर्चा
4. रामलीला
5. राष्ट्र का सेवक
6. रियासत का दीवान
7. रिहर्सल

1. राज्य-भक्त

संध्या का समय था। लखनऊ के बादशाह नासिरुद्दीन अपने मुसाहबों और दरबारियों के साथ बाग की सैर कर रहे थे। उनके सिर पर रत्नजटित मुकुट की जगह अँगरेजी टोपी थी। वस्त्र अँगरेजी ही थे। मुसाहबों में पाँच अँगरेज थे। उनमें से एक के कंधे पर सिर रखकर बादशाह चल रहे थे। तीन-चार हिंदुस्तानी भी थे। उनमें एक राजा बख्तावरसिंह थे। वह बादशाही सेना के अध्यक्ष थे। उन्हें सब लोग ‘जेनरल’ कहा करते थे। वे अधेड़ आदमी थे। शरीर खूब गठा हुआ था। लखनवी पहनावा उन पर बहुत सजता था। मुख से विचारशीलता झलक रही थी। दूसरे महाशय का नाम रोशनुद्दौला था। यह राज्य के प्रधान मन्त्री थे। बड़ी-बड़ी मूँछें और नाटा डील था, जिसे ऊँचा करने के लिए वह तनकर चलते थे। नेत्रों से गर्व टपक रहा था। शेष लोगों में एक कोतवाल था, और दो बादशाह के रक्षक। यद्यपि अभी 19वीं शताब्दी का आरम्भ ही था, पर बादशाह ने अँग्ररेजी रहन-सहन अख्तियार कर ली थी। भोजन भी प्रायः अँग्ररेजी ही करते थे। अँग्ररेजों पर उनका असीम विश्वास था। वह सदैव उनका पक्ष लिया करते। मजाल न थी कि कोई बड़े-से-बड़े राजा या राजकर्मचारी अंग्ररेज से बराबरी करने का साहस कर सके।

अगर किसी में यह हिम्मत थी, तो वह राजा बख्तावरसिंह थे। उनसे कंपनी का बढ़ता हुआ अधिकार न देखा जाता था; कम्पनी की उस सेना की संख्या, जिसे उसने अवध के राज्य की रक्षा के लिए लखनऊ में नियुक्त किया था, दिन-दिन बढ़ती जाती थी। उसी परिमाण से सेना का व्यय भी बढ़ रहा था। राजदरबार उसे चुका न सकने के कारण कम्पनी का ऋणी होता जाता था। बादशाही सेना की दशा हीन से हीनतर होती जाती थी। उसमें न संगठन था न बल। बरसों तक सिपाहियों का वेतन न मिलता। शस्त्र सभी पुराने ढंग के, वरदी फटी हुई, कवायद का नाम नहीं। कोई उनका पूछने वाला न था। अगर राजा बख्तावरसिंह वेतन-वृद्धि या नए शस्त्रों के सम्बन्ध में कोई प्रयत्न करते, तो कम्पनी का रेजीडेंट उसका घोर विरोध और राज्य पर विद्रोहात्मक शक्ति-संचार का दोषारोपण करता। उधर से डाँट पड़ती, तो बादशाह अपना गुस्सा राजा साहब पर उतारते। बादशाह के सभी अँग्ररेज-मुसाहब राजा साहब से शंकित रहते और उनकी जड़ खोदने का प्रयास करते थे। पर वह राज्य का सेवक एक ओर से अवहेलना और दूसरी ओर से घोर विरोध सहते हुए भी अपने कर्तव्य का पालन करता जाता था। मजा यह कि सेना भी उनसे संतुष्ट न थी।

आगे....

प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

विनामूल्य पूर्वावलोकन

Prev
Next
Prev
Next

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book