प्रेमचन्द की कहानियाँ 42 - प्रेमचंद Premchand Ki Kahaniyan 42 - Hindi book by - Premchand
लोगों की राय

कहानी संग्रह >> प्रेमचन्द की कहानियाँ 42

प्रेमचन्द की कहानियाँ 42

प्रेमचंद


E-book On successful payment file download link will be available
प्रकाशक : भारतीय साहित्य संग्रह प्रकाशित वर्ष : 2017
पृष्ठ :156
मुखपृष्ठ : ई-पुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 9803

Like this Hindi book 6 पाठकों को प्रिय

222 पाठक हैं

प्रेमचन्द की सदाबहार कहानियाँ का बयालीसवाँ भाग


सिपाही- ''तुम्हारे आखें नहीं हैं क्या?''

चिंता.- ''तुम इतना रोब क्यों जमाते हो, क्या हमें कोई भिक्षुक समझा है? अगर मोटेराम का यही घर हो, तो जाकर कहो पं. चितामणिजी उनसे मिलने आए हैं। धौंस दूसरों पर जमाना।''

सिपाही- ''कार्ड लाओ।''

चिंतामणि- ''कैसा कार्ड?''

सिपाही- ''व्यवस्थापकजी बिना कार्ड देखे किसी से नहीं मिलते।''

चिंता. - ''तुम हमारा नाम तो बताओ जाकर।''

सिपाही- ''ऐसे क्या नाम बताऊँ। मुझ पर बिगड़ने लगें तब।''

चिंतामणि ने जब देखा कि सिपाही की खुशामद से काम न चलेगा, तो द्वार पर खड़े होकर ज़ोर-ज़ोर से पुकारने लगे- ''मोटेराम? ओ मोटेराम!''

सिपाही ने चिंतामणि का हाथ पकड़कर हटाते हुए कहा- ''यहाँ चिल्लाने का हुक्म नहीं है।''

चिंतामणि की क्रोधाग्नि भड़क उठी। वह उस सिपाही को अपने ब्रह्मतेज का स्वरूप दिखाना ही चाहते थे कि पं. मोटेरामजी अंदर से निकल आए और चिंतामणि को देखकर बोले- ''अरे! तुम हो चिंतामणि। कार्ड क्यों न भेजवा दिया। तुमने साइन-बोर्ड तो देखा होगा-मैं 'सोना' नामक पत्रिका का संपादक हूँ। आओ- अंदर आओ। मैं बिना कार्ड देखे किसी से नहीं मिलता, लेकिन तुम अपने पुराने मित्र हो, तुम्हारे लिए कोई रोक-टोक नहीं।''

चिंतामणि अंदर दाखिल हुए तो कुछ और ही छटा देखी। जिस कोठरी में सोना बैठती थी, वहाँ अब मेज और कुर्सियाँ थीं। रसोई के कमरे में पत्रों का ढेर लगा हुआ था। बरामदों में कर्मचारी लोग बैठे हुए बड़े-बड़े रजिस्टर लिख रहे थे।

जब दोनों आदमी कुर्सियों पर बैठ गए तो मोटेरामजी ने कहा- ''तुम जब तीर्थयात्रा करने चले गए तो मैंने एक पत्रिका निकाल ली।''

...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book